योगी सरकार ने ताजमहल पर लिया यू टर्न,  2018 कैलेंडर में किया ताजमहल को शामिल

योगी सरकार ने ताजमहल पर लिया यू टर्न, 2018 कैलेंडर में किया ताजमहल को शामिल

Posted by

नई दिल्ली: ताजमहल जो आज कल खबरों का केंद्र बना हुआ हैं। भाजपा पिछले कुछ दिनों से विवादों मे घिरा हैं। हर पार्टी इस मुद्दे पर बीजेपी पर हमला कर रही हैं। विपक्ष के हमले के बाद भाजपा विधायक संगीत सोम को सफाई देनी पड़ी इतना ही नही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी अदित्यनाथ ने भी यू टर्न लिया हैं।

ताजमहल को यूपी टूरिज्म बुकलेट में से ऐतिहासिक स्थानों की सूची से हटाए जाने के बाद अब उत्तर प्रदेश के राज्य सूचना विभाग द्वारा छापवाए 2018 कैलेंडर में जगह मिली है।

राज्य की महत्वपूर्ण विरासत और पर्यटन स्थलों की छवियों को ले जाने के अलावा, कैलेंडर में भाजपा के लोकप्रिय नारा ‘सबका साथ, सबका विकास प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी की तस्वीरें कैलेंडर में शमिल हैं। 

कैलेंडर में इसके अलावा गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर भी है। गोरखनाथ मट्ट का प्रतिनिधित्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया है।

बता दे ताजमहल को यूपी टूरिज़्म बुकलेट में से ऐतिहासिक स्थानों की सूची से हटा दिया गया हैं।हालांकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मुद्दे पर यू टर्न लेते हुए ताजमहल को एतिहासिक धरोहर बताया है। मंगलवार को उन्होंने इस मुदेदे पर बोलते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा कि यह मायने नहीं रखता कि ताजमहल को किसने और क्यों बनवाया। ताजमहल एक ऐतिहासिक धरोहर है। भाजपा नेता संगीत सोम के ताजमहल पर दिए गए विवादास्पद बयान के बाद मुख्यमंत्री योगी की यह टिप्पणी आई है। मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में कहा, ‘यह मायने नहीं रखता कि ताज महल को किसने और क्यों बनवाया। यह भारत माता के सपूतों के खून पसीने से बना है। यह पूरी दुनिया में अपने वास्तु के लिए मशहूर है। यह एक ऐतिहासिक धरोहर है और हमारे लिए बेहद महत्त्वपूर्ण है। खासतौर पर पर्यटन की दृष्टि से यह हमारी प्राथमिकता में है और पर्यटकों को सुविधाएं व सुरक्षा मुहैया