अखिलेश यादव को लगा झटका, हाथी पर सवार हुए पूर्व विधायक रामपाल यादव

अखिलेश यादव को लगा झटका, हाथी पर सवार हुए पूर्व विधायक रामपाल यादव

Posted by

सीतापुर। शिवपाल यादव गुट के कहे जाने वाले पूर्व सपा विधायक रामपाल यादव ने मंगलवार को बहुजन समाज पार्टी पार्टी का दामन थाम लिया। आपको बता दें कि यह वही विधायक हैं जिनका पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से बड़ा विवाद हुआ था। जिसके बाद अखिलेश के इशारे पर विधायक के स्पर्श होटल पर बुल्डोजर चल गया था। वहीं पूर्व विधायक रामपाल यादव ने बसपा के हाथी पर सवार होते ही एक बार फिर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर जोरदार हमला बोला और तमाम आरोप लगाए।

मेलरोज होटल में प्रेस वार्ता करते हुए तमाम बहुजन समाज पार्टी नेताओं की मौजूदगी में सैकड़ों समर्थकों के साथ पूर्व विधायक रामपाल यादव ने बसपा ज्वाइन कर ली। इस दौरान बसपा के विधायक हरगोविंद भार्गव, जिला अध्यक्ष राम मूर्ति मधुकर और नेकपाल भारती सहित तमाम बसपाई मौजूद रहे। रामपाल ने एक बार फिर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर आरोप लगाया कि उन्होंने समाजवादी विचारधारा से अलग हटकर काम किया, इसीलिये जनता ने उन्हें 2017 के विधानसभा चुनाव में किनारे लगा दिया।

रामपाल यादव ने बसपा ज्वाइन करते वक्त अपने पुत्र जितेंद्र यादव जो कि सीतापुर जिला पंचायत अध्यक्ष हैं, उन्हें इस कार्यक्रम से काफी दूर रखा। रामपाल से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बेहद चतुराई से कहा कि पिता का हाथ तो पुत्र पर हमेशा से ही है, कहकर बात को टाल दिया।

रामपाल यादव के बसपा में आते ही एक बात तो काफी हद तक साफ हो गई है कि शिवपाल खेमा अब किसी नए दल का इंतजार करने के मूड में तो बिल्कुल भी नहीं है, क्योंकि 2019 का लोकसभा चुनाव भी सिर पर ही है। वहीं मुलायम सिंह यादव की प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक बार फिर नए दल के बनने की हवा निकल जाने से रामपाल यादव ने अपना इरादा साफ कर दिया।